Thursday, August 18, 2011

क्रांतिकारी युवाओं के आदर्श थे नेताजी


भारत के अग्रणी स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चन्द्र बोस का नाम भारतीय इतिहास के पन्नों में स्वर्णाक्षरों में अंकित है. नेताजी अपने अद्वितीय और गौरवशाली व्यक्तित्व के कारण देश के युवाओं के आदर्श बन गए थे. उन्होंने मातृभूमि की रक्षा को अपना लक्ष्य बनाया. नेताजी ने आई.सी.एस जैसी प्रतिष्ठित नौकरी, जिसे प्राप्त करने का अवसर अब तक किसी भारतीय को नही मिल था उसे त्यागकर देशसेवा को प्राथमिकता दी.
“आज हमारी मातृभूमि विदेशी-विधर्मी पापियों की दासता में जकड़ी हुई है. माँ मुझे आशीष दें कि मैं भारत भूमि की मुक्ति के लिए कुछ कर सकूं”
नेताजी का जन्म 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक में हुआ था. उनके पिता का नाम जानकीनाथ बोस और माता का नाम प्रभादेवी था.  नेताजी ने अपना संपूर्ण जीवन देश सेवा में लगा दिया. उन्होंने सत्य की खोज के लिए अपने जीवन में अनेक यात्राएं की. उन्होंने अपनी उच्च शिक्षा कोलकाता तथा कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पूरी की. इसके बाद उन्होंने इंग्लैंड से सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण की.  नेताजी पहले भारतीय थे जिन्होंने यह परीक्षा उत्तीर्ण की लेकिन उन्होंने इसे लात मार देशसेवा को ही अपना लक्ष्य बनाया. इस सन्दर्भ में उन्होंने अपने बड़े भाई शरतचंद्र को पत्र लिखकर बताया-
सिविल सर्विस से व्यक्ति को सभी प्रकार के सुख तो मिल सकते हैं लेकिन क्या सुख एवं वैभव के लिए अपनी आत्मा को कुचलना,  देश के लिए दायित्व को छोड़ देना उचित कहा जा सकता है? ” उन्होंने आगे लिखा “मैं इस समय चौराहे पर खड़ा हूँ और किसी भी प्रकार का समझौता संभव नही है. मुझे या तो इस सड़ी-गली सर्विस को लात मार देनी चाहिए और देश कि सेवा में पूरी तरह लग जाना चाहिए अथवा अपने समस्त आदर्शों एवं उमंगों का त्याग कर देना चाहिए और सर्विस में भर्ती हो जाना चाहिए”. उन्होंने अपनी माँ को भी पत्र लिख कहा कि “आज हमारी मातृभूमि विदेशी-विधर्मी पापियों की दासता में जकड़ी हुई है. माँ मुझे आशीष दें कि मैं भारत भूमि की मुक्ति के लिए कुछ कर सकूं”(नेताजी सुभाष चन्द्र बोस; शिवकुमार गोयल)
इंग्लैंड में अपनी पढ़ाई पूरी कर वे भारत लौटे और गांधी जी के विचारों से प्रभावित हो असहयोग आन्दोलन में भाग लिया. उन्होंने ही गांधी जी को सर्वप्रथम ’राष्ट्रपिता’ कहकर सम्मान दिया.
अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने के लिए उन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापान के सहयोग से 1943 में आज़ाद हिंद फौज की स्थापना की. इस फ़ौज में लड़कियों ने भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया. इसमें ’झांसी की रानी’ नाम की एक अलग रेजिमेंट बनाई गयी. उन्होंने देश को ’जय हिंद’ का नारा दिया जो भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया. देशवासियों से उन्होंने कहा कि
“मैं विश्वास दिला दूं कि अँधेरे में, उजाले में, गम और ख़ुशी में, कष्ट सहन और विजय में मैं आपके साथ ही रहूँगा. इस समय मैं तो आपको भूख, प्यास, कठिनाई और मृत्यु के अतिरिक्त कुछ नहीं दे सकता. किन्तु यदि आप मेरा साथ जीवन और मरण में दे, जैसा कि मुझे विश्वास है कि आप जरूर देंगे, तो मैं आपको विजय और स्वतंत्रता तक पहुँचा दूंगा”.(क्रांतिवीर सुभाष; गिरिराजशरण अग्रवाल)
इस बात पर अडिग हो उन्होंने देश के नौजवानों से “तुम मुझे खून दो, मै तुम्हे आजादी दूंगा” का नारा देकर देश के लिए बलिदान का आह्वान किया.
आज़ाद हिंद फ़ौज का नेतृत्व संभालने वाले महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने 23 वर्ष की छोटी सी उम्र में घर त्याग स्वयं को पूर्ण रूप से भारत माता को समर्पित कर दिया था. 18  अगस्त 1945  के दिन भारत को अपने इस वीर पुत्र को खोना पड़ा. आज से 66 वर्ष पूर्व ताइवान के ताइहोकू में एक विमान हादसे में नेताजी  को महज 48  वर्ष में ही जान गंवानी पड़ी. उनकी मृत्यु पर आज भी संशय किया जाता है कि हवाई दुर्घटना स्वाभाविक थी या किसी के द्वारा कराई गई थी. लेकिन हाल ही में मुंबई के एक युवक मनोरंजन रॉय ने सर्वोच्च न्यायालय में आर.टी.आई. दाखिल कर यह सूचना ली कि नेताजी की मौत कब, कहाँ और कैसे हुई थी? इसके जवाब में स्पष्ट किया गया कि भारत सरकार ने नेताजी की गुमशुदगी का पता लगाने के लिए तीन समितियां व आयोग गठित किये थे. जिसमें से दो आयोगों ने निष्कर्ष निकाला कि उनकी मृत्यु विमान हादसे से हुई जबकि एक आयोग इसे आंशिक रूप से मानता है. ऐसा माना जाता है कि उनकी मृत्यु ताइहोकू में होने के कारण उनकी अस्थियों को टोक्यो ले जाया गया. टोक्यो के रेनकोजी मंदिर में उन्हें सुरक्षित रखा गया है. यह कहना उचित ही होगा कि नेताजी जैसे महान व्यक्तित्व के प्रणेता भारत में शायद ही फिर कभी इस भूमि पर दोबारा जन्म ले. उनकी पुण्य तिथि पर उन्हें शत-शत नमन!

Thursday, August 11, 2011

विभाजन है एक नितांत असत्य


                          
   15 अगस्त का दिन कहताआजादी अभी अधूरी है,
       सपने सच होने बाकी हैंरावी की शपथ न पूरी है.


15  अगस्त के दिन यानी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ये बात कही जा सकती है कि अखंड भारत के बिखरे हुए खण्डों को जब तक पुनः जोड़कर एक नहीं किया जायगा तब तक यह आज़ादी अधूरी है. 14 अगस्त का दिन भारत के लिए ऐतिहासिक दिन है जब भारत को रक्तरंजित कर दो टुकड़े कर दिए गए. इस दिन को विभाजन तक पहुंचाने के लिए अंग्रेजों की नीतियां और साथ ही मुस्लिम लीगखिलाफत आन्दोलन जैसे बहुत कारण रहे. भारत इस दिन को अखंड भारत दिवस के रूप में मनाता है तो पाकिस्तान इसे अपने स्वतंत्रता दिवस के रूप में. जिन्ना और लॉर्ड माउन्ट बैटन ने षड़यंत्र से अखंड भारत का विभाजन कर अपना एक मुल्क तैयार किया. इन्हें दो नाम दिए- भारत और पाकिस्तान. कट्टरता के नाम पर  यह विभाजन विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र राष्ट्र के लिए एक बड़ा नुकसान था इसके बावजूद जिन्ना की इस मांग को स्वीकार करना पडा. हालांकि कई महापुरुष विभाजन पर असहमत रहे. प्रसिद्द लेखक श्री गुरुदत्त ने अपने उपन्यास में लिखा है -"देश विभाजन कभी ठीक नही माना जा सकता. यह क्यों हुआकिसने किया और इसको कैसे मिटाया जा सकता हैये प्रश्न देश के सम्मुख और तब तक रहेंगे जब तक यह विभाजन मिट नहीं जाता सामयिक चिंताओं से ग्रस्त लोग भले ही नाक की नोक के आगे न देख सकें परन्तु दूर द्रष्टि रखने वाले तो इस प्रश्न पर विचार करेंगेभारत एक होकर रहेगा ही". 
                                  विभाजन से असंतुष्ट हो गांधी जी ने कहा था "विभाजन एक नितांत असत्य है उसके सिद्धांतो को स्वीकार करना मेरे लिए परमात्मा को अस्वीकार करने जैसा है". वहीँ स्वातंत्र्य वीर सावरकर का कहना था कि "यदि इस अपने समाज को जागृत और संगठित कर सकें तो वह दिन दूर नही जब भारत एक होकर रहेगा". यह देख पता चलता है कि उस समय भी विभाजन पर सभी के बीच असंतुष्टि थी. ये वे लोग हैं जो पूर्णतया भारत भूमि के रक्षक तथा राष्ट्रप्रेमी थे लेकिन यहाँ यह बात उल्लेखनीय है कि एक अलग मुस्लिम मुल्क पाकिस्तान बनाने के बाद भी वहां फैली अशांति देख जिन्ना यह महसूस करने लगे थे कि यह विभाजन अनुचित ही था.  दीनदयाल उपाध्याय जी ने इस पर कहा था "अखंड भारत मात्र एक विचार न होकर विचारपूर्वक किया हुया संकल्प है, कुछ लोग विभाजन को पत्थर की लकीर मानते हैं. यह ठीक नही है".      
आजादी के 64 वर्ष पूरे होने पर यहाँ यह कहना उचित होगा कि आज जहां पाकिस्तान आस्तीन के सापों(तालिबान और आतंक ) को झेलने को मजबूर है वहीँ भारत पाकिस्तान से अधिक स्थिर है. कश्मीर, भारत का एक और ऐसा हिस्सा है जिस पर दशकों से पाकिस्तान अपनी नजर गड़ाए बैठा है. भारत में पाकिस्तानी आतंकियों ने घुसपैठ कर कश्मीर में हिंसा फैलाए हुए है . यह भारतवासियों का धर्म है कि भारत कि इस मिट्टी को खुद से अलग न होने दे और भारतभूमि फिर एक हो जाए.
दिन दूर नहीं खंडित भारत को पुनः अखंड बनायेंगे, गिलगित से गारो पर्वत तक, आजादी पर्व मनायंगे. 
उस स्वर्ण दिवस के लिए आज से, कमर कसें बलिदान करें जो पाया उसमे खो ना जाएँ, जो खोया उसका ध्यान करें.             

Monday, August 8, 2011

वेब मीडिया का बढ़ता क्षितिज

orZeku nkSj lapkj Økafr dk nkSj gSA lapkj Økafr dh bl izfØ;k esa tulapkj ek/;eksa ds Hkh vk;ke cnys gSaA vkt dh oSf’od vo/kkj.kk ds varxZr lwpuk ,d gfFk;kj ds :Ik esa ifjofrZr gks xbZ gSA lwpuk txr xfreku gks x;k gS] ftldk O;kid izHkko tulapkj ek/;eksa ij iM+k gSA ikjaifjd lapkj ek/;eksa lekpkj i=] jsfM;ks vkSj Vsyhfotu dh txg osc ehfM;k us ys yh gSA     
osc txr dk ,d cM+k fgLlk osc tuZfyTe vFkkZr~ osc i=dkfjrk us ys fy;k gSA osc i=dkfjrk vkt lekpkj i=&if=dk dk ,d csgrj fodYi cu pqdk gSA U;w ehfM;k] vkWuykbu ehfM;k] lkbcj tuZfyTe] vkSj osc tuZfyTe tSls dbZ ukeksa ls osc i=dkfjrk dks tkuk tkrk gSA osc i=dkfjrk fizaV vkSj czkWMdkfLVax ehfM;k dk feyk&tqyk :i gSA ;g VsDLV] fiDplZ] vkWfM;ks vkSj ohfM;ks ds tfj;s Ldzhu ij gekjs lkeus gSA ekml ds flQZ ,d fDyd ls fdlh Hkh [kcj ;k lwpuk dks i<+k tk ldrk gSA ;g lqfo/kk 24 ?kaVs vkSj lkrkas fnu miyC/k gksrh gS ftlds fy, fdlh izdkj dk ewY; ugha pqdkuk iM+rkA

osc i=dkfjrk dk ,d Li"V mnkgj.k cudj mHkjk gS fodhyhDlA fodhyhDl us [kksth i=dkfjrk ds {ks= esa osc i=dkfjrk dk tedj mi;ksx fd;k gSA [kksth i=dkfjrk vc rd jk"Vªh; Lrj ij gksrh Fkh ysfdu fodhyhDl us bls varjkZ"Vªh; Lrj ij iz;ksx fd;k o viuh fjiksVksZa ls [kqykls dj iwjh nqfu;k esa gypy epk nhA
Hkkjr esa osc i=dkfjrk dks yxHkx ,d n’kd chr pqdk gSA gky gh esa vk, rktk vkadM+ksa ds vuqlkj baVjusV ds mi;ksx ds ekeys esa Hkkjr rhljs ik;nku ij vk pqdk gSA vk/kqfud rduhd ds tfj;s baVjusV dh igaqp ?kj&?kj rd gks xbZ gSA ;qokvksa esa bldk izHkko vf/kd fn[kkbZ nsrk gSA ifjokj ds lkFk cSBdj fganh [kcfj;k pSuyksa dks ns[kus dh ctk, vc ;qok baVjusV ij osc iksVZy ls lwpuk ;k vkWuykbu lekpkj ns[kuk ilan djrs gSaA lekpkj pSuyksa ij fdlh lwpuk ;k [kcj ds fudy tkus ij mlds nksckjk vkus dh dksbZ xkjaVh ugha gksrh] ysfdu ogha osc i=dkfjrk ds vkus ls ,slh dksbZ leL;k ugha jg xbZ gSA tc pkgs fdlh Hkh lekpkj pSuy dh osclkbV ;k osc if=dk [kksydj i<+k tk ldrk gSA
yxHkx lHkh cM+s&NksVs lekpkj i=ksa us vius ^bZ&isij^ ;kuh baVjusV laLdj.k fudkys gq, gSaA Hkkjr esa 1995 esa lcls igys psUubZ ls izdkf’kr gksus okys ^fganw^ us viuk bZ&laLdj.k fudkykA 1998 rd vkrs&vkrs yxHkx 48 lekpkj i=ksa us Hkh vius bZ&laLdj.k fudkysA vkt osc i=dkfjrk us ikBdksa ds lkeus <sjksa fodYi j[k fn, gaSA orZeku le; esa jk"Vªh; Lrj ds lekpkj i=ksa esa tkxj.k] fgUnqLrku] HkkLdj] Msyh ,Dlizsl] bdkWukWfed VkbEl vkSj VkbEl vkWQ bafM;k tSls lHkh i=ksa ds bZ&laLdj.k ekStwn gaSA     
Hkkjr esa lekpkj lsok nsus ds fy, xwxy U;wt] ;kgw] ,e,l,u] ,uMhVhoh] chchlh fganh] tkxj.k] HkM+kl QkWj ehfM;k] CykWx izgjh] ehfM;k eap] izoDrk] vkSj izHkklk{kh izeq[k osclkbV gSa tks viuh lekpkj lsok nsrs gSaA
osc i=dkfjrk dk c<+rk foLrkj ns[k ;g le>uk lgt gh gksxk fd blls fdrus yksxksa dks jkstxkj fey jgk gSA ehfM;k ds foLrkj us osc Msoyijksa ,oa osc i=dkjksa dh ekax dks c<+k fn;k gSA osc i=dkfjrk fdlh v[kckj dks izdkf’kr djus vkSj fdlh pSuy dks izlkfjr djus ls vf/kd lLrk ek/;e gSA pSuy viuh osclkbV cukdj mu ij gj lSdaM ,d ubZ cszfdax U;wt] LVksjh] vkfVZdy] fjiksZV] ohfM;ks ;k lk{kkRdkj dks viyksM vkSj viMsV djrs jgrs gaSA vkt lHkh ize[k pSuyksa¼vkbZch,u] LVkj] vktrd vkfn½ vkSj v[kckjksa us viuh osclkbV cukbZ gqbZa gSaA buds fy, i=dkjksa dh fu;qfDr Hkh vyx ls dh tkrh gSA
lwpukvksa dk ^Mkd?kj^ dgh tkus okyh laokn lfefr;ka ihVhvkbZ] ;w,uvkbZ] ,,Qih vkSj jk;Vj tSlh laokn lfefr;ka vius lekpkj rFkk vU; lHkh lsok,aa vkWuykbu nsdj viuk O;kikj djrh gaSA         
dEI;wVj ;k ySiVkWWi ds vykok ,d vkSj ,slk lk/ku ^eksckby Qksu* tqM+k gS tks bl lsok dks foLrkj nsus ds lkFk mHkj jgk gSA Qksu ij czkWMcSaM lsok us vketu dks osc i=dkfjrk ls tksM+k gSA fiNys fnuksa eqacbZ esa gq, lhfj;y CykLV dh rktk rLohjsa vkSj ohfM;ks cukdj vke yksxksa us osc txr ds lkFk lka>k dhA gky gh esa] nwjlapkj ea=h dfiy flCcy us xkaoksa esa iapk;rksa dks czkWMcSaM lqfo/kk eqgS;k djkus dk izLrko j[kk gSA blls irk pyrk gS fd Hkfo"; esa ;g lqfo/kk,a xkao&xkao rd iagqpsaxhA
osc i=dkfjrk us tgka ,d vksj ehfM;k dks ,d u;k f{kfrt fn;k gS ogha nwljh vksj ;g ehfM;k dk iru Hkh dj jgk gSA baVjusV ij fganh esa vc rd vf/kd dke ughas fd;k x;k gS] osc i=dkfjrk esa Hkh vaxzsth gh gkoh gSA i;kZIr lkexzh u gksus ds dkj.k fganh ds i=dkj vaxzsth osclkbVksa ls gh [kcj ysdj vuqokn dj viuk dke pykrs gSaA os ?kVukLFky rd Hkh ugha tkdj ns[kuk pkgrs fd vlyh [kcj gS D;k\  
 ;g dgk tk ldrk gS fd Hkkjr esa osc i=dkfjrk us ,d ubZ ehfM;k laLd`fr dks tUe fn;k gSA vaxzsth ds lkFk&lkFk fganh i=dkfjrk dks Hkh ,d ubZ xfr feyh gSSA ;qokvksa dks u;s jkstxkj feys gSaA vf/kd ls vf/kd yksxksa rd baVjusV dh igaqp gks tkus ls ;g Li"V gS fd osc i=dkfjrk dk Hkfo"; csgrj gSA vkus okys le; esa ;g iw.kZr% fodflr gks tk,xhA