Saturday, November 12, 2011

वो इन्सां कहाँ है ...


रौशन है हर वो सितारा 
दी जिसे रौशनी  तूने
खूबसूरत है हर वो नज़ारा 
दी जिसे खूबसूरती  तूने
बहती है हर वो नदी 
दी जिसे गति तूने
उन्मुक्त है हर  वो परिंदा 
दी जिसे उड़ान तूने
                                  खड़ा है हिमालय आज भी वहीँ तनकर
                                  दी है  जिसे ऊंचाई तूने...

                                  तो मुझे बता वो इन्सां कहाँ है 
 दी जिसे इंसानियत तूने ?

 


No comments:

Post a Comment